Chanderi.org

About Chanderi

महमूद पीर की मजार, जो एक 15वीं सदी के सूफी संत थे, अब मुसलमानों से ज्यादा जैनियों और हिंदुओं के लिए विश्वास की जगह है। उनकी समाधि सिर्फ एक पत्थर के चबुतरे पर बनी है, उसकी कोई कब्र संरचना नहीं है।उनके सबसे प्रमुख और समर्पित अनुयायियों के कब्र भी उनके आसपास दफन हैं।

आसपास के क्षेत्र में कम से कम सात छोटे मस्जिदों के खंडहर हैं, सभी मस्जिद अलग-अलग काल के हैं और उनके बरकरार प्लेटफार्मों और पुश्तों द्वारा ही उन्हें पहचाना जा सकता है।

Comments are closed.

VIDEO

TAG CLOUD


Supported By