Chanderi.org

About Chanderi

Badal Mahal Darwaza,Chanderi

यह संरचना, चंदेरी के सभी स्मारकों के बीच सबसे प्रख्यात है और अंदरूनी शहर के दक्षिणी छोर पर स्थित है। शहर के सात इंटरलॉकिंग दीवारों में से एक जो कि शहर को विशिष्ट क्षेत्रों में बांटता था के भीतर स्थित यह दरवाजा 15 वीं सदी में सुल्तान महमूद शाह खिलजी मैं के शासनकाल के दौरान बनाया गया था। कहा जाता है कि यह प्रवेश द्वार एक महल, बादल महल के द्वार पर खड़ा था, लेकिन अब यह महल अस्तित्व में नहीं है।

यह मेहराबदार फाटक स्वयं ही एक प्रवेश द्वार का काम करता था जिसके दोनों तरफ दो लंबे बांसुरीनुमा मीनार हैं। दरवाजे के ऊपर कुछ स्थान खाली है और शीर्ष पर एक और मेहराब है जिसमें चार अलग-अलग पैटर्न के जाली का सजावट है। दरवाजा के दोनों ओर दो फूलदार राउण्डेल हैं जिनके छोटे संस्करण मीनारों को सजाने का काम कर रहे हैं। इसके अलावा सजावट में लघु धनुषाकार फैकेडस् और अन्य ज्यामितीय रूपांकन हैं।

एक ऐतिहासिक स्मारक के रूप में इसके महत्व को स्पष्ट रूप में समझा जा सकता है क्योंकि इसे एक मुहर के रूप में जो पत्र चंदेरी में पोस्ट हो रहे हैं उन पर लगाया जाता है। यह वह स्टैम्प भी है जो कि मध्य प्रदेश का हथकरघा विभाग हाथ से बुनी साड़ियों, जिसके लिये चंदेरी प्रसिद्ध है, पर लगाता है।

Comments are closed.

VIDEO

TAG CLOUD


Supported By