Chanderi.org

About Chanderi

Kati Ghati Gateway,Chanderiयह हेरालडीक संरचना, जो कि पूरी तरह से एक लिभिंग रॉक को काटकर बनाया गया है, चंदेरी के दक्षिणी किनारे पर स्थित है, दक्षिण में ​​बुंदेलखंड और उत्तर में मालवा के बीच एक लिंक का काम करता है। जमीनी सतह से 230 फुट ऊपर, सिर्फ दरवाजा ही 80 फुट ऊँचा और 39 फुट चौड़ा है। फाटक के पूर्वी दीवार पर देवनागरी और नासक दोनों लिपियों में एक शिलालेख है, जो कि बताता है कि इसका निर्माण चंदेरी के तत्कालीन राज्यपाल शेर खान के बेटे जिमान खान द्वारा सन् 1495 ई. में कमीशन किया गया था.

इस फाटक के निर्माण के साथ जुड़े किंवदंती अत्यंत दुखद है। इस फाटक को मालवा के सुल्तान, घयासुद्दीन खिलजी, जो कि अगले ही दिन चंदेरी में आने थे, का स्वागत करने के लिये काटा जाना था। एक भावुक जिमान खान ने घोषणा की कि जो भी राजमिस्त्री एक रात में गेट उत्कीर्ण करने में सक्षम हो जाएगा उसे एक पुरस्कार दिया जायेगा। केवल एक राजमिस्त्री ने चुनौती स्वीकार किया और जिमान खान को आश्वासन दिया है कि वह अपने दल के साथ इस कार्य को पूरा करेगा। अगली सुबह, जिमान खान को प्रवेश द्वार को देख कर सुखद आश्चर्य हुआ, वह हैरान था, लेकिन आगे निरीक्षण करने पर गौर किया कि यह दरवाजा जिस पर टिके उस के लिए प्रावधान का अभाव था। चूंकि यह दरवाजा सामरिक रूप से महत्वपूर्ण स्थान पर स्थित था, अतः सुरक्षा कारणों से यह अनिवार्य हो गया था कि वहाँ एक दरवाजा हो। जिमान खान ने इस गलती को करने के लिए राजमिस्त्री को पैसे देने से इनकार कर दिया। जिसने इस लगभग असंभव कार्य को पूरा किया था उसके बावजूद खाली हाथ, उदास और गमगीन लौट गया। उसने बाद में आत्महत्या कर ली. और आज तक यह कटी घाटी गेट एक दरवाजे के बिना खड़ा है।

Comments are closed.

VIDEO

TAG CLOUD


Supported By