Chanderi.org

About Chanderi

कोशक महल

यह सरल पर भव्य इमारत, जो कि चंदेरी शहर से… [more]

कोशक महल कोशक महल

शहजादी का रौजा

यह सुरुचिपूर्ण संरचना जिसे एक 12 फुट ऊँचे… [more]

शहजादी का रौजा शहजादी का रौजा

रामनगर महल व संग्रहालय

कटी घाटी फाटक से होकर जो सड़क जा रही है वो… [more]

रामनगर महल व संग्रहालय रामनगर महल व संग्रहालय

पुराना मदरसा

मालवा सल्तनत के महमूद खिलजी के संरक्षण… [more]

पुराना मदरसा पुराना मदरसा

कटी घाटी गेटवे

यह हेरालडीक संरचना, जो कि पूरी तरह से एक… [more]

कटी घाटी गेटवे कटी घाटी गेटवे

बेहटी मठ

बेहटी गाँव से 3 किलोमीटर की दूरी पर, जो कि… [more]

बेहटी मठ बेहटी मठ

नानुआन शिलाचित्र

नानुआन गांव के पास, उर्वशी नदी के किनारे-किनारे… [more]

नानुआन शिलाचित्र नानुआन शिलाचित्र

ईदगाह

यह मस्जिद जो कि मुख्य शहर से काफी कम दूरी… [more]

ईदगाह ईदगाह

खानदारगिरी मंदिर

रामनगर सड़क पर शहर से 2 किलोमीटर की दूरी… [more]

खानदारगिरी मंदिर खानदारगिरी मंदिर

बादल महल दरवाजा

यह संरचना, चंदेरी के सभी स्मारकों के बीच… [more]

बादल महल दरवाजा बादल महल दरवाजा

सिंहपुर महल

विंध्याचल पर्वत श्रृंखलाओं के बीच में… [more]

सिंहपुर महल सिंहपुर महल

कीर्ति दुर्ग

कीर्ति दुर्ग सबसे पहले 11 वीं सदी में प्रतिहार… [more]

कीर्ति दुर्ग कीर्ति दुर्ग

जामा मस्जिद

जामा मस्जिद, जहाँ नमाज के समय 2000 से अधिक… [more]

जामा मस्जिद जामा मस्जिद

जागेश्वरी मंदिर

इस मंदिर की स्थापना के पीछे एक किदवंती… [more]

जागेश्वरी मंदिर जागेश्वरी मंदिर

निजामुद्दीन के परिवार के कब्र

चंदेरी- मोंगावली रोड से होकर, जामा मस्जिद… [more]

निजामुद्दीन के परिवार के कब्र निजामुद्दीन के परिवार के कब्र

Gol Bawdi,Chanderiयह बावड़ी शहर से कुछ दूरी पर इसके दक्षिण में कंधारगिरी पहाड़ी की तलहटी में स्थित है। दो शिलालेख इसकी सीढ़ियों की दीवारों के भीतर स्थापित पाये जा सकते है। नासक लिपि में फ़ारसी भाषा में खुदे हुए ये शिलालेख छंद के रूप में उत्कीर्ण हैं। वे उल्लेखित करते है कि ये बावड़ी सवाई खैर और गुले बादशाह, जो कि शेख बुराहमुद्दीन की पत्नियाँ थीं, के द्वारा सुल्तान नसीरुद्दीन खिलजी के शासनकाल के दौरान बनवायी गयी थी।

Continue reading “गोल बावड़ी” »

Parshvanath Digambar Jain Mandir,Chanderi23वें तीर्थंकर पार्श्वनाथ को समर्पित, यह मंदिर अंदर शहर के भीतर स्थित है। यह जैन तीर्थयात्रियों, जो देश भर से चंदेरी की यात्रा को आते हैं, के बीच लोकप्रिय है। हालांकि मंदिर की नींव की सही तारीख मालूम नहीं है, यह निश्चित रूप से चौबीसी जैन मंदिर से पुरानी है। एक शिलालेख जो मंदिर के भीतर निहित है, उसमें 13वीं सदी दिनांकित है।

Musa Quadin’s Bawdi,Chanderiअंदर शहर के भीतर स्थित इस बावड़ी को सन् 1454 ई. में संत हजरत मूसा कुआद्दीन ने बनवाया था। एक मस्जिद, जो की उनके ही द्वारा बनवायी गयी थी, तथा उनका मजार आसपास में ही स्थित हैं। इस बावड़ी का पानी अन्य सभी बावड़ियों के पानी में सबसे साफ है, यह इतना साफ है कि अगर एक सिक्का नीचे गिर गया है तो वह ऊपर से भी स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ता है।

Continue reading “मूसा कुआद्दीन की बावड़ी” »

Qazi Khatmuddin Tomb,Chanderi ईदगाह के समीप शहर के उत्तर – पश्चिम में स्थित यह कब्र काजी खत्मुद्दीन की है। एक शिलालेख हमें बताता है कि यह वर्ष 1455 ई. में बनाया गया था।

Continue reading “काजी खत्मुद्दीन की कब्र” »

Chandai Bawdi,Chanderiराजघाट कॉलोनी के समीप, शहर के उत्तरी भाग में स्थित यह बावड़ी वर्तमान में बड़ी दयनीय स्थिति में है। दो शिलालेख, जो एक संस्कृत में है व दूसरी फ़ारसी में है, से पता चलता है कि यह सीढ़ीदार कुँआ किसी चाँद बक्कल तथा उसके भाईयों द्वारा उनकी माँ की स्मृति में बनवाया गया था।

VIDEO

TAG CLOUD


Supported By